Poems in Hindi on Mother

एकPoems in Hindi on Mother”, दुनिया में सबसे खूबसूरत शब्द माँ होती है,! जब हम छोटे होते है तो माँ के प्यार को समझते है.

पर जब बड़े हो जाते है, अलग ही दुनिया में खो जाते है, पर माँ हमेशा वैसे ही प्यार ध्यान और बच्चो की फ़िक्र करती रहती है, क्युकी माँ तो माँ होती है“,

Poems in Hindi on mother

ये “Poems in Hindi on Mother हर बच्चे की तरफ से अपने अपने माँ को dedicated है,!

Poems in Hindi on mother

“माँ मैं तो तेरा साया था”

आँखे तेरी आइना थी मेरी, जिसमे अस्क दीखता मेरा था, आंखें जब तू बंद करें अंधेरा सा लगता था,

माँ मैं तो तेरा साया था उजाले से डर लगता था”,

तेरे हाथ के वो निवाले याद है मुझे, तब भी तुमने रोटी खिलाया जब तेरे हाथो में छाले थे,

मुझे देख कर मुस्कुराना मेरे ओझल हो जाने से उदास हो जाना,! मेरी चोट लग जाने पर तेरा पागलों की तरह घबराना,

चोट के दर्द से नहीं माँ तेरे दुखी हो जाने से डर लगता था,! माँ मैं तो तेरा साया था उजाले से डर लगता था,

जब मैं खुश हो जाता था तेरी दुनिया खिल उठती थी,! माँ मेरे हर ख्वाबों में बस तू ही तू दिखती थी,

दिन भर काम करने के बाद रातों को तुम जगती थी, मेरे लिए सोती थी मेरे लिए उठती थी,

तेरी दुनिया मेरी थी और मेरी दुनिया तेरी थी”,

जैसे-जैसे बढ़ा हुआ ये दुनिया बदलती चली गई, मैंने पाली नई दुनिया माँ तेरी दुनिया बिछड़ गई,

इस दुनिया में खुश तो है पर कमी हमेशा कुछ तो है,! वापस जीना चाहता हूं जो पल सारा चला गया,

माँ मैं तो तेरा साया था उजाले से डर लगता था,

गद्दे यहां है मखमल के पर नींद नहीं तेरी गोदी की,! वो नींद नहीं अब आती है तेरे साथ खटिया भी बिछौने की,

माँ मैं तो तेरा साया थाPoems in Hindi on mother

माँ जिस दुनिया में तू लाई थी वो दुनिया अब क्यों बदल गई,! आगे मुझे बढ़ा करके खुद क्यों वही खड़ी रही,

मेरा ख्याल रखने में तू खुद की चिंता भूली थी,! अब मंदिर मस्जिद क्या जाऊं मेरा ईश्वर अल्लाह तु ही थी,

तेरी याद बहुत तब आया था, जब दुनिया ने हंसी उड़ाया था,! तेरा जो जहां था माँ, दुनिया में वह कुछ कहा था मां,

माँ मैं तो तेरा साया था मां उजाले से डर लगता था,

तेरे कदमों में ही जन्नत है ये तब मैं नहीं समझता था,! लुभावनी दुनिया में मैं किसी और पर मरता था,

आंसू पोछने वाले हम दर्द भी सौदा करके चले गए,! माँ बस एक तू ही है जो बिना सर्त सब करती है,

दुनिया कितनी मतलबी है तब समझ में आया मां, माँ मैं तो तेरा साया था उजाले से डर लगता था,

माँ मैं तो तेरा साया था उजाले से डर लगता था, Poems in Hindi on mother


-:MAA MAI TO TERA SAYA THA:-

AANKHE TERI AINA THI MERI JISME ASK DIKHTA MERA THA, !

ANKHE JB TU BAND KARE TO ANDHERA SA LAGTA THA,!!

MAA MAI TO TERA SAYA THA UJALE SE DAR LAGTA THA,

TERE HATH KE WO NIWALE YAAD HAI MUJHE, TAB BHI TUMNE ROTI KHILAYA JAB TERE HATHO ME CHHALE THE,!

MUJHE DEKHA KAR MUSKURANA MERE OJHAL HO JANE SE UDAS HO JANA, MUJHE CHOT LAG JAANE PR TERA PAGALO KI TARAH GHABRANA,!

CHOT KE DARD SE NAHI MAA TERE DUKHI HONE SE DAR LAGTA THA, MAA MAI TO TERA SAYA THA UJALE SE DAR LAGTA THA,!

JAB MAI KHUSH HO JATA THA TERI DUNIYA KHIL UTHATI THI,! MAA TERE HR KHWABO ME BS TU HI TU DIKHTI THI,!

DIN BHAR KAAM KARANE KE BAD BHI RAATO KO TU JAGATI THI, MERE LIYE SOTI THI MERE LIYE UTHATI THI,!

TERI DUNIYA MERI THI AUR MERI DUNIY TERI THI,

JAISE JAISE BADA HUA YE DUNIYA BADALTI CHALI GAYI, MAINE PAA LI NAYI DUNIYA MAA TERI DUNIYA BICHHAD GAYI,!

IS DUNIYA ME KHUSH TO HAI PR KAMI HUMESA KUCH TO HAI, WQAPAS JEENA CHAHTA HU WO PAL JO SARA CHALA GYA,!

MAA MAI TO TERA SAYA THA UJALE SE DAR LAGTA THA,

GADDE YAHA HAI MAKHAMAL KE PR NID NAHI MAA TERI GODI KI, WO NID NAHI AB AATI HAI TERE SATH KHATIYA BICHHAUNE KI,!

MAA MAI TO TERA SAYA THA UJALE SE DAR LAGTA THA,!

MAA JIS DUNIYA ME TU LAYI THI, WO DUNIYA AB KYU BADAL GAYI, AAGE MUJHE BADHA KAR KE KHUD KYU PICHHE KHADI RAHI,!

MERA KHYAL RAKHANE ME TU KHUD KI CHINTA BHULI THI, AB MANDIR MASJID KYA JAAUN MERI ISHWAR ALLAH TU HI THI,!

TERI YAAD BAHUT TB AYA THA, JAB DUNIYA NE HANSHI UDAYA THA, TERA JO YE JANHA THA MAA DUNIYA ME KUCH WO KANHA THA MAA,!

MAA MAI TO TERA SAYA THA UJALE SE DAR LAGTA THA,

TERE KADAMO ME HI JANNAT HAI YE TAB MAI NHI SAMJHTA THA, LUBHAWANI DUNIYA ME MAI KISI AUR PR MARTA THA,!

ANSHU POCHANE WALE HAMDARD BHI SAUDA KAR KE CHALE GAYE, MAA BS EK TU HI THI JO BINA SART SAB KARTI HAI,!

DUNIYA KITNI MATLABI HAI TAB SAMJH ME AYA MAA,! MAA MAI TO TERA SAYA THA UJALE SE DAR LAGTA THA,

MAA MAI TO TERA SAYA THA UJALE SE DAR LAGTA THA,


NOTE:-

Ye Poems Maa Ke Liye Samrpit Hai Inspirational DeskTops Dwara, Is Ummid Me Ki Ye Apki Dil Ko Chu Kar Apne Maa Ke Prati Apke Dil Me Soye Pyar Ko Jaga Ke Apni Maa Ko Is Pyar Ko Chatane Ka Prayas Karega,

Aur App Sabhi Ko Ye Suchhavhai Inspirational DeskTops Ki Taraf Se Ki Apni Maa Ka Sada Khyal Rakhiye Unka Samman Kariye, Unjko Sari Khushiya Dijiye Aur Unka Ashirwad Le Kar Jeevan Bhar App Khud Bhi Khush Rhiye Mast Rahiye Muskurate Rahiye,!

Agar Apko Ye Poem Pasand Aya To Ise Apne Dost Mitra Aur Apne Sage Sambandhiyo Ke Sath Sajha Kariye, Apka Koi Personal Sujhav Ho To Ap Comment Box Me Comment Kariye, Inspirational DeskTops Apke Bhavnau Aur Apke Vichar Aur Sujhav Ka Samman Karta Hai,!

Read this poetryजीवन एक पहेली – “पीछे पड़ा है जमाना

If you also like Poetry in Hindi, then you should also visit this website www.DailyInspirationBoard.com once,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button